Header Ads

VPN क्या है ? यह केसे काम करता है ?

इन्टरनेट पर हर व्यक्ति हमेशा इस बात को लेकर चिंतित  रहता है कि कही उसका निजी डाटा हैकर द्वारा चुरा नही लिया जाये ? आपकी इसी परेशानी से को लेकर मै आपको एक नेटवर्क के बारे में बताने जा रहा हूँ जिससे आप अपने निजी डाटा को हैकर से बचा सकते हो | जिसे हम VPN के नाम से जानते है |  तो चलो फिर जाने कि VPN क्या है ?

क्या है VPN ? क्या आप VPN के बारे में जानते है यदि नही तो आज मै आपको उसके बारे में बताना जा रहा हूँ | जिससे आपको उसके फायदे के बारे में पता लग सके | इसमे आपको पता लगेगा की यह केसे काम करता है | आप रोजाना इन्टरनेट पर बहुत सी चीजे ढूढ़ते है इसमे आपको कही कही पर तो अपनी पर्सनल डिटेल्स को भी डालना पड़ता है | लेकिन आपको पता ही होगा कि इन्टरनेट के इस जाल में आपको हैकर यानि एक प्रकार के ऐसे चोर जो आपको पता न लगे ही आपकी सारी पर्सनल डिटेल्स को चुरा लेते है जिससे आपको बहुत नुकशान हो सकता है | इसलिए इन्टरनेट पर हैकर हमेशा आपकी गलती का इंतजार करते है जिससे आप उनके जाल में फंस जाते हो जिससे के कारण वह आपको ब्लैकमेल करते है या फिर आपके डाटा का वह गलत तरीके से इस्तेमाल कर सकते हो और जिसका भुगतान आपको उठाना पड़ता है | इन्ही कारणों से आज के टाइम पर इन्टरनेट पर सिक्यूरिटी पर ज्यादा ध्यान दिया जाता है | जिससे सिक्यूरिटी के लिए आपको एक VPN (VIRTUAL PRIVATE NETWORK ) दिया जाता है जिससे के बारे में आपको आज पूरी तरह से बताने जा रहा हूँ कि VPN क्या है ? और केसे काम करता है ?
what is vpn in hindi
what is vpn in hindi
इसे भी पढ़े :-

VPN क्या है ?
VPN का पूरा नाम VIRTUAL PRIVATE NETWORK होता है VPN के द्वारा एक ऐसा नेटवर्क बनाया जाता है जो आपके पब्लिक नेटवर्क और प्राइवेट नेटवर्क के बीच एक सिक्योर VIRTUAL नेटवर्क बनाता है | जेसे कि पब्लिक WI-FI और आपके नेटवर्क के बीच में एक सिक्योर नेटवर्क | नेटवर्क की इस तकनीक से पब्लिक नेटवर्क और प्राइवेट नेटवर्क के बीच एक सिक्योर कनेक्शन बनाती है | जब आप अपनी डिवाइस  को VPN से कनेक्ट करते हो तो वह डिवाइस एक लोकल नेटवर्क की तरह से काम करता है जिससे डाटा चुराना कठिन हो जाता है | जिसके कारण आप ज्यादा सिक्योर हो जाते हो |

VPN का इस्तेमाल ज्यादातर बड़ी बड़ी कंपनिया ,व्यापारी ,GOVT.संस्था ,CORPORATION आदि करते है | जिसकी मदद से यह अपने डाटा को और भी अधिक सिक्इयोर बना सकते है | जब आप VPN का इस्तेमाल करते हो तो आप हैकर के अटैक से बच सकते हो | इसलिए आप जब भी कोई ऑनलाइन काम करते हो तो VPN का इस्तेमाल जरुर करे जिससे आप उनके चंगुल से बच सकते हो |

VPN केसे काम करता है ?
VPN का काम होता है जब आप अपने डिवाइस को VPN से कनेक्ट करते हो तो यह आपके डिवाइस के कनेक्शन को सिक्योर को बनाता है और साथ ही यह आपकी लोकेशन को चेंज करता रहता है | इसकी सहायता से आपका डाटा भी सिक्योर रहता है क्योकि जब आप इससे कनेक्ट करके अपने डिवाइस को चलाते हो तो यह आपके डिवाइस की लोकेशन को बदलता रहता है जिससे आपको कोई न तो ट्रेस कर सकता है  और न  ही आपके डाटा को कोई चुरा सकता है | इसमें आप अपने देश में ब्लॉक सभी साइट को ओपन कर सकते हो | क्योकि जब आप VPN का इस्तेमाल करते हो तो यह लोकेशन को चेंज करके आपकी लोकेशन को उस देश के नेटवर्क से जोड़ देता है जिससे यह साइट ब्लॉक नहीं होती है | इसी प्रकार यह अलग अलग वर्चुअल नेटवर्क बनाता है जिसमे आप सिक्योर रहते हो |
what is vpn in hindi
what is vpn in hindi


कुछ अलग अलग VPN के बारे में जाने :-

# Nord VPN :-
जब भी हम कोई भी ऑनलाइन काम करते हो तो हमको सिक्योर रखने में जो सबसे बेस्ट VPN है वह Nord VPN ही है | यह हमारी सभी ऑनलाइन एक्टिविटी को सिक्योर रखता है | Nord vpn एक ऐसा vpn है जिसके पूरी दुनिया में 3400 से से ज्यादा सर्वर है | इसमें स्पेशल ऑप्टीमाइज सर्वर भी शामिल है जो की अपने सभी ग्राहकों को बेस्ट सिक्योरिटी प्रोवाइड करता है | यह VPN आपको लगभग हर प्लेटफार्म में उपलब्ध है |

इसे भी पढ़े :-


# TUNNEL BEAR VPN :- 
यह VPN ओर VPN की तुलना में काफी हद तक आसान है इसे आप आसानी से use में ले सकते हो | पुरे वर्ल्ड में इसके सर्वर 1000 के आस पास ही है | जो की 22 अलग अलग लोकेशन पर है | यह अन्य की तुलना में अच्छी सर्विस देता है | यह vpn अभी  नया हो है जो की कलरफुल भी है इसमें प्राइवेसी पॉलिसी भी काफी अच्छी है |
इसका इंटरफ़ेस इतना आसान है की आप इसे आसनी से उपयोग में ले सकते हो |

GOLDEN FROG VPN :-
यह आपका ट्रैफिक सिक्योर करता है | इसी के साथ ही यह आपको firewall ऑफर करता है | Golden frog VPN के पुरे वर्ल्ड में सेकड़ो सर्वर है | जिसके कारण इनकी प्राइवेसी बहुत ही मजबूत है यह एक साथ तीन device को सपोर्ट कर सकता है इन्ही फीचर के कारण यह top VPN की लिस्ट में आता है |

KEEP SOLID VPN :-
keep solid VPN प्राइवेसी का एक मजबूत पैक देता है हम इसे एक साथ पांच device के साथ कनेक्ट कर सकते है | यह 400 सर्वर के साथ हमें सर्विस प्रोवाइड कराता है जो की पुरी दुनिया में 70 लोकेशन पर है |


इसे भी पढ़े :-


TOR GUARD VPN :-
tor gourd VPN उनके लिए है जो टोरेंट use में लेते है इससे वह अपना डाटा को lose होने से बचा सकते है |
यह अपनी पहचान को गोपनीय रखता है | सबसे ज्यादा तो यह आपके ट्रैफिक को सिक्योर रखता है | यह pc ,मोबाइल राऊटर और स्ट्रीमिंग बॉक्स को सपोर्ट करता है | इसके पूरी दुनिया में आपको 3000 से भी ज्यादा सर्वर मोजूद है | जो आपको सर्विस देते है |

VPN के advantages  :-

जब आप VPN को purchase करके उसे use में लेते हो तो  आपका इसमे डाटा और डिटेल्स ज्यादा सिक्योर हो जाती है |
 यदि आप अपने देश में ब्लॉक वेबसाइट को ओपन करना चाहते हो तो आप उन्हें आसानी से VPN की मदद से ओपन कर सकते हो |
जब आप VPN को खरीदकर use में लेते हो तो आपको उसमे bandwith फुल मिलती है जिससे आपकी स्पीड बढ़ जाती है |
VPN की मदद से आप अपने डाटा को चोरी होने से बचा सकते हो |
आप जब भी कोई ऑनलाइन काम करते हो तो आपको सिक्यूरिटी की बहुत ज्यादा जरूरत होती है जो की आप VPN की सहायता से बढ़ा सकते हो
इसकी की मदद से आप अपनी लोकेशन को change कर सकते हो |

इसे भी पढ़े :-


VPN के disadvantages :-

फ्री वाले VPN को यदि आप use में लेते हो तो आपको उसमे बहुत कम bandwith मिलती है जिससे आप अपनी कार्य को स्पीड के साथ नही कर सकते हो |
फ्री वाले VPN में आपको ads show बहुत ज्यादा मिलती है जो की आपको परेशान कर सकती है
आपको कभी भी फ्री वाले VPN को इस्तेमाल नही करना चाहिए क्योकि आप  इससे अपने डाटा जो lose कर सकते हो |
कुछ VPN आपको कुछ समय के लिए तो फ्री होते है लेकिन उसके बाद आपको इसे use करने के लिए पेसे देने पड़ते है  |
आप जब भी कोई VPN का इस्तेमाल करे तो उसके बारे में पूरी जानकारी ले लेनी चाहिए जिससे आपको कभी भी कोई नुकशान नही उठाना पड़ेगा |

इन्हे भी पढ़े :-



मै आशा करता हूँ कि अब आप VPN के बारे में पूरा जान गए होंगे यदि आपको फिर कोई समस्या हो तो आप हमें कमेंट करके बता सकते हो जिससे हमें आपकी समस्या का जवाब दे सके |
इसी के साथ आपसे निवेदन है की आप हमें सब्सक्राइब करे जिससे आपको हमारी पोस्ट की notification सबसे पहले प्राप्त हो सके |
आपके कीमती समय के लिए  धन्यवाद |







About Author

No comments

Powered by Blogger.